जवान और वृद्ध के लिए समान रूप से समाचार, उत्तेजक है यदि समाचार उनकी मान्यता की योजनाओं से अनुकूल है। मनुष्य सोचता है कि जब कोई खबर नहीं तब समाचार अनुकूल है क्यों कि वह भयभीत रहता है कि खबर उसकी मान्यताओं से नहीं मिल-जुलती। उसे समझना ज़रूरी है कि जब कोई खबर नहीं, तब भी वह अनुकूल समाचार है और जब कोई खबर है, तब भी समाचार अनुकूल ही है क्यों कि सभी समाचार, उस संसार में भ्रामिक है जो खुद भ्रामिक है। जो समाचार इस समझ को प्रदान करते हैं, वही समाचार अनुकूल है।

 

Newsletters

 

 

 

The Academy of Absolute Understanding

Newsletters